क्यूँ असीर-ए-गेसू-ए-ख़म-दार-ए-क़ातिल हो गया's image
1 min read

क्यूँ असीर-ए-गेसू-ए-ख़म-दार-ए-क़ातिल हो गया

ABUL KALAM AZADABUL KALAM AZAD
0 Bookmarks 1196 Reads0 Likes
क्यूँ असीर-ए-गेसू-ए-ख़म-दार-ए-क़ातिल हो गया
हाए क्या बैठे-बिठाए तुझ को ऐ दिल हो गया
कोई नालाँ कोई गिर्यां कोई बिस्मिल हो गया
उस के उठते ही दिगर-गूँ रंग-ए-महफ़िल हो गया
इंतिज़ार उस गुल का इस दर्जा क्या गुलज़ार में
नूर आख़िर दीदा-ए-नर्गिस का ज़ाइल हो गया
उस ने तलवारें लगाईं ऐसे कुछ अंदाज़ से
दिल का हर अरमाँ फ़िदा-ए-दस्त-ए-क़ातिल हो गया
क़ैस-ए-मजनूँ का तसव्वुर बढ़ गया जब नज्द में
हर बगूला दश्त का लैला-ए-महमिल हो गया
ये भी क़ैदी हो गया आख़िर कमंद-ए-ज़ुल्फ़ का
ले असीरों में तिरे 'आज़ाद' शामिल हो गया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts