जुम्बिश-ए-काकुल-ए-महबूब से दिन ढलता है's image
1 min read

जुम्बिश-ए-काकुल-ए-महबूब से दिन ढलता है

Abdul Hameed AdamAbdul Hameed Adam
0 Bookmarks 42 Reads0 Likes

जुम्बिश-ए-काकुल-ए-महबूब से दिन ढलता है
है किस ख़ूबी-ए-उस्लूब से दिन ढलता है

फ़ेंक कुल्फ़त-ज़दा सूरज पे भी छींटे उस के
जिस मय-ए-दिल-कश-ओ-मर्ग़ूब से दिन ढलता है

कोशिश-ए-बंदा-ए-दाना नहीं कामिल होती
सोहबत-ए-बंदा-ए-मज्ज़ूब से दिन ढलता है

मेहर के वलवला-ए-रास्त से पव फटती है
मेहर के जज़्बा-ए-मक़्लूब से दिन ढलता है

साक़िया एक 'अदम' को भी फरेरी उस की
जिस खनकते हुए मश्रूब से दिन ढलता है.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts