वो दौर दिखा जिसमें इन्सान की ख़ूशबू हो's image
1 min read

वो दौर दिखा जिसमें इन्सान की ख़ूशबू हो

Aalok ShrivastavAalok Shrivastav
0 Bookmarks 177 Reads2 Likes

वो दौर दिखा जिसमें इन्सान की ख़ूशबू हो
अन्सान की आखों में ईमान की खुशबू हो

पाकीजा अजाओं में मीरा के भजन गूंजें
नौ दिन के उपासन में रमजान की खुशबू हो

मैं उसमें नज़र आऊ वो मुझमें नज़र आये
इस जान की खुशबू में उस जान की खुशबू हो

मस्जिद की फिजाओं में महकार हो चन्दन की
मंदिर की फिजाओं में लोबान की खुशबू हो

हम लोग भी फिर ऐसे बेनाम कहाँ होंगे
हममें भी अगर तेरी पहचान की खुशबू हो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts