जिन बातों को कहना मुश्किल होता है, उन बातों को सहना मुश्किल होता है.'s image
3 min read

जिन बातों को कहना मुश्किल होता है, उन बातों को सहना मुश्किल होता है.

Aalok ShrivastavAalok Shrivastav
9 Bookmarks 922 Reads14 Likes

नई ग़ज़ल l نئی غزل

जिन बातों को कहना मुश्किल होता है,
उन बातों को सहना मुश्किल होता है.

इस दुनिया में रह कर हमने ये जाना,
इस दुनिया में रहना मुश्किल होता है.

जिस धारा में बहना सबसे आसाँ हो,
उस धारा में बहना मुश्किल होता है.

उसके साथ हमें आसानी है कितनी,
उससे ये भी कहना मुश्किल होता है.

उसके ताने, उसके ताने होते हैं !
मुश्किल से भी सहना मुश्किल होता है.

वो बातें जो कहने में आसान लगें,
उन बातों का कहना मुश्किल होता है

वो सब बातें जो तुम अक्सर कहते हो,
उन बातों का सहना मुश्किल होता है.

माज़ी की यादें भी ऐसा सूरज हैं,
जिस सूरज का गहना मुश्किल होता है.

लगती है ये बहर बहुत आसान मगर,
इसमें ग़ज़लें कहना मुश्किल होता है.

गहना : ग्रहण लगना

جن باتوں کو کہنا مشکل ہوتا ہے
ان باتوں کو سہنا مشکل ہوتا ہے

اس دنیا میں رہ کر ہم نے یہ جانا
اس دنیا میں رہنا مشکل ہوتا ہے

جس دھارا میں بہنا سب سے آساں ہو
اس دھارا میں بہنا مشکل ہوتا ہے

اس کے ساتھ ہمیں آسانی ہے کتنی
اس سے یہ بھی کہنا مشکل ہوتا ہے

اس کے طعنے اس کے طعنے ہوتے ہیں
مشکل سے بھی سہنا مشکل ہوتا ہے

وہ باتیں جو کہنے میں آسان لگیں
ان باتوں کا کہنا مشکل ہوتا ہے

وہ سب باتیں جو تم اکثر کہتے ہو
ان باتوں کا سہنا مشکل ہوتا ہے

ماضی کی یادیں بھی ایسا سورج ہیں
جس سورج کا گہنا مشکل ہوتا ہے

لگتی ہے یہ بحر بہت آسان مگر
اس میں غزلیں کہنا مشکل ہوتا ہے

हर कविता की एक कहानी होती है

इस कविता की कहानी 'लॉकडाउन' में अपने साथ बिताया वक़्त है. ऐसे अनुभव हैं जो आपको अपने और अपनों के साथ रहते हुए होते हैं. कविता में ज़बान के सहज-सरल होने का मुरीद रहा हूँ. इसीलिए कोशिश करता हूँ कि किसी शेर की तम्हीद अर्थात भूमिका न बाँधनी पड़े. शेर ख़ुद बाँहे पसारे आए और गले लग जाए. तो यूँ आम-फ़हम ज़बान में जो कहता रहता हूँ, आप समझ लेते हैं, ये मैं पहले से जानता हूँ. इस ग़ज़ल में कुछ शेरों की कहानी एक-दूसरे से दूर-दूर हो कर बैठी है तो इसी ग़ज़ल के कुछ शेर आपको कंधे से कंधा सटाए नज़र आएँगे. बर्दाश्त कर लीजिएगा. ग़ज़ल का मतला, सानी मिसरे में महज़ तीन अक्षर बदल कर कहा है. बात बन गई हो तो बताइएगा. कहानियाँ और भी हैं पर उन्हें आप अपने हिसाब से महसूस करेंगे, तो शायद मआनी और निकलें. कहानियाँ कुछ और बनें. कोई कविता यूँ ही कहाँ होती है ? हर कविता की एक कहानी होती है.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts