इक हुनर है वो भी विरसे में मिला है's image
1 min read

इक हुनर है वो भी विरसे में मिला है

Aalok ShrivastavAalok Shrivastav
0 Bookmarks 60 Reads0 Likes

इक हुनर है वो भी विरसे में मिला है
देख लीजे हाँथ में सब कुछ लिखा है

हिचकियाँ साँसों को जख्मी कर रही हैं
यूं मुझे फिर याद कोई कर रहा है

नींद की मासूम परियां चौंकाती हैं
एक बूढा ख़्वाब ऐसे खांसता है

चाँद से नजदीकियां बढ़ने लगी है
आदमी में फासला था फासला है

सांस की पगडंडियाँ भी खत्म समझो
अब यहाँ से सीधा सच्चा रास्ता है

मैं बदलते वक्त से डरता नहीं हूँ
कौन है जो मेरे अंदर कांपता है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts