Sher's image
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

मसलहत है फरेब- ए- हसीं 

एक झूटी किरन की तरह 

हो गयी महफ़िल-ए-नाज़ भी 

एक उजड़े चमन की तरह 

Rekhta Pataulvi

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts