सब खैरियत's image
Share0 Bookmarks 142 Reads1 Likes

रोज़ गुज़रता मैं इस सड़क से,

बहुत मिल जाते खैरियत पूछने वाले !!

वो पेड़-वो पौधे! मिलते हर रोज़,

कुछ इशारे हवा के झोकों से ।।

पूछते हाल -चाल वो !!

जवाब में मैं एक लंबी साँस ले ।।

सब खैरियत सोच निकल पड़ता अपने धुन मे

और वो वहीं इंतज़ार करते दोबारा मेरी खैरियत पूछने ।।

____---~युगांशु रवि ---

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts