' हंसकर चलना होगा''s image
Poetry1 min read

' हंसकर चलना होगा'

YOGENDRA SINGH RAJAWATYOGENDRA SINGH RAJAWAT January 3, 2023
Share0 Bookmarks 44 Reads0 Likes

जो काल के भाल पर वीरों सी छाप देते हैं

एक डुबकी में सागर की गहराई नाप लेते हैं

पुँज बनकर इस संकट में प्रखरना होगा 

हे मानुष तुझे हंसकर चलना होगा ।


गिनने को जग में अगणित सितारे हैं

वो जीता ही क्या अब तक जो हारे हैं 

अजेय बनकर रथ पर निकलना होगा 

हे मानुष तुझे हंसकर चलना होगा ।


जिनके फौलादी पंजे गौरव गाथा गाते हैं 

जो अपने विवेक से गगन छूकर आते हैं 

अमावस में भी पूनम सा निखरना होगा 

हे मानुष तुझे हंसकर चलना होगा ।

पुँज बनकर इस संकट में प्रखरना होगा ।।


✍️ योगेंद्र सिंह राजावत

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts