मुझसे बात कर !'s image
Poetry1 min read

मुझसे बात कर !

RohitRohit March 4, 2022
Share0 Bookmarks 30 Reads1 Likes
तेरे होठों से
जो लफ्ज़ो की बरसात नही होती
तेरी चुप्पी मेरे सीने की आग को
बुझाती नही,
भड़का देती है
मैं थक गया हूँ तेरी ख़ामोशी से
अपने मतलब के अर्थ निकाल कर
अब मुझमें इतनी हिम्मत बाक़ी नही 
कि मैं तुझसे बात छेड़ सकूँ
तू इतंजार कर या ना कर 
पर मैं इतंजार में हूँ
तेरे होठों की नाद को 
सुनूँ तेरे साथ बैठकर
और सुनूँ तेरी हर खुशी, तेरा हर दर्द
और जब तेरे होठों से सिसकी फूटे
तुझे चुप करा सकूँ
तेरे लबों पर अपने लब रखकर
तेरे अश्कों को अपनी आँखों मे भरकर
तुझे दिखा सकूँ वो रंग
जो तेरे ख्यालों की उज्जलत ने
मुझमे बिखेरे हैं।
तू कभी मुझसे बात कर!
- रोहित

Twitter- @YesIRohit
Fb/page- @YesIRohit
Instagram- @yesirohit



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts