व्युत्पत्ति's image
Share3 Bookmarks 446 Reads9 Likes

साधक के मन को भाते,

एकाग्रता आभ्यन्तर तुम लाते!

मन विवश होकर जब भी हो कुंठित,

शक्ति कुंडलिनी में करते तुम सिंचित,

कर्ता भी हो तुम,भर्ता भी तो तुम ही!

गतिमान संसार का उद्गम तुम से ही!

सबकुछ होना जैसे माटी में विलीन,

द्वेष का भ्रमजाल भी अल्पकालीन!

स्वाध्याय से सशक्त मैं बनूं, द्वारकाधीश!

झुकाता आपके समक्ष मैं अपने शीश,

मैंने वेदों में भी खोजा बहुत सा ज्ञान,

जैसे चित्त ध्यान के बिना चलायमान!

कल्पनाशीलता सुचारू जहां तुम विद्यमान!

लुप्त हो समस्त मेरा नाज़ुक अभिमान,

सदैव मेरे हृदय में हो करुणा विराजमान,

मैंने माता पिता को माना अपना संसार,

वरदान तुम्हारा देखो मिला हैं आपार!

सुमिरन करना तुम्हारा वो सिखलाए,

जागृति व सुबोधता मन में तुम लाए!

कृष्ण! सृष्टि के सृष्टा को मेरा वंदन,

दिव्य दृष्टा को बहुत अभिनंदन!



- यति



जय श्री कृष्णा


❤️





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts