संपर्क's image
Share2 Bookmarks 119 Reads8 Likes

कुछ तर्क वितर्क,

अनापेक्षित संपर्क!

सुखद सा जुड़ाव,

आत्मीयता का भाव!

जानने मिला मानो कोई पुरातन गांव,

ज़िंदगी की धूप में जैसे मिली थोड़ी छांव,

ना कुछ गैरज़रुरी जताना,

ना कुछ बेवजह समझाना,

इतना सरल सा अफसाना!

बिना अंत के सफर को जैसे हम रवाना!

कुछ रिश्तों के नहीं होते नाम,

कभी-कभी उन्हें याद करते गुज़र जाती शाम,

अब ऐसे किस्से कहां होते आम?

सबकी जिंदगी में उपलब्ध बहुत से काम!

किंतु मन करता यूंही फुसफुसाने का,

किसी अपने से लगते रिश्ते को गुदगुदाने का!

यूंही बिना किसी नकाब के मिल पाने का,

आत्मा से दोस्ती निभाने का,

एक दिन कभी फिर मिल पाने का!

संपर्क को समाप्त होने से बचाने का,

अपेक्षित टकराव को भी करके नजरंदाज,

हंसी मज़ाक का संग रखकर मिजाज़,

हर दिन ऐसे जीना जैसे आखिरी ही हो "आज"!

नियोजित हो जाएंगे शांति से बाकी समस्त काज,

बस मुस्कुरा दें वो चाहे हो अभी कहीं दूर,

संपर्क साधने में ना आए कभी रिश्तों में गुरूर,

निभाने की मंशा तो छिपी होती ज़रूर,

क्या फ़ायदा फिर बने रहने में मग़रूर!

शीशे सरीखी दिल की आकांक्षा अधूरी नहीं होती चूर,

इसलिए दोस्ती का रूप हैं प्रेम से अधिक मशहूर!



- यति







Be the medium of Love,

Spread Light ! :)


❤️





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts