नुक्ता's image
Share1 Bookmarks 358 Reads4 Likes

राही तुम खुद नहीं किसी के विचारों के अधीन,

तुम्हारी निर्मल ताकत निखरे जब तुम रहो स्वाधीन,

नुक्ता बस यह कि तुम अपने घेरे को बढ़ाओ,

अपने भय को सशक्त रवैया रख सदैव हराओ,

अविरल बहती क्रियात्मक धारा संग अभय को जगाओ,

वो जो भीतर समाए तुम्हारे उस चैतन्य से खुलकर फरमाओ,

कहीं तुम कम संसाधनों का बना तो नहीं रहे बहाना?

तो सुनो जग नहीं रहता किसी की क्षमताओं से कभी बेगाना!

समय तुम्हारा आएगा,तुम्हें उससे पहले बहुत कुछ सिखलाएगा,

समय का चक्र ऐसा प्रतीत होता जैसे वो खुदको दोहराएगा!

अपनी निर्मल कांति पर तुम ना करना क्षणभर भी शंका,

चुनौतियों में तुम जानो उसमें कैसे हैं कुछ सीखने की आशंका,

अध्यन और गाथा से उत्कृष्ट उदाहरण तुम पेश करना,

रचनाओं और आविष्कारों से तुम्हें देश को रौशन करना!


- यति



Dedicated to all the creators, discoverers and inventors!

❤️

Much Love

Much Light !


:)







No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts