मनोरंजन के माध्यम✨'s image
Poetry1 min read

मनोरंजन के माध्यम✨

Yati Vandana TripathiYati Vandana Tripathi January 24, 2022
Share2 Bookmarks 137 Reads3 Likes

हर पटकथा में प्रयोग के आसार,

शोध से निर्मित कथा का होता स्वत: प्रसार!

मौजूद होते भिन्न भावों वाले किरदार,

कला से होता प्रत्येक दिन दीदार,

कभी समझनी किरदार की भीतरी टूटन,

कभी दर्शानी होती जूझ में हो रही घुटन!

यहां पल में बदलने होते भूषण और वस्त्र!

भावभंगिमा में सही पकड़ ही बेजोड़ अस्त्र,

प्रस्तुति में प्रयोगों के रहते मुमकिन नहीं ऊब!

सच्चा कलाकार वही जो जाए किरदार में डूब,

तर जाना हैं फिर उसे नवीन प्रयासों से नित,

ज्ञात उसे कला में योगदान से संभव समाज का हित,

रोमांच संग रचित होता रंगमंच का मनोरंजन,

सहभागिता सबकी ज़रूरी करने में इसका नियोजन।




- यति


:)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts