जीवन अपना सलोना!'s image
Poetry1 min read

जीवन अपना सलोना!

Yati Vandana TripathiYati Vandana Tripathi April 20, 2022
Share2 Bookmarks 287 Reads3 Likes

दिल का कोना,

जिज्ञासा का होना,

उम्मीद का बीज बोना,

भ्रम का मन से खोना,

स्याही से जज़्बात खोलना,

बात सरल सी बोलना!

अपनापन सदा घोलना!

और एक सुनहरी योजना,

जो ज़रूरी हैं बाद कोरोना!

वो हैं सफाई अभियान को ना छोड़ना!

हाथों को सही ढंग से पर्याप्त धोना,

साफ रखना कार्यस्थल भी रोज़ाना!

सावधानी की ना करना हमें अवहेलना!

चेतावनी के पश्चात थोड़ी हमें बेहेकना,

कठिन हालातों में जूझते नहीं फिर देखना,

तो याद रहे अच्छी आदतों का कोई मेल ना!

लाभकारी अत्यंत भीड़ में मास्क पहन लेना,

सजग रहने से नहीं पड़ेंगे पापड़ बेलना,

अभी ही कम हुआ आंकड़ों का दहकना!

सिमटे ना बेफिक्री से हमारा यूं चहकना,

वर्जिश को आप समय अतिरिक्त देना!

अच्छा आहार भी बढ़िया से मस्त लेना!

कोताही ज़रा भी ना आपको बरतना!

सीख देता जीवन अपना बड़ा सलोना।





- यति




:)





Stay Safe, Practice a healthy Lifestyle!






स्वच्छ भारत ❤️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts