आज क्या लिखा जी आपने:D ?'s image
Poetry1 min read

आज क्या लिखा जी आपने:D ?

Yati Vandana TripathiYati Vandana Tripathi November 27, 2021
Share3 Bookmarks 262 Reads3 Likes

कल की थकान,

दुविधा में फंसा मकान,

नया सीखा हुआ ज्ञान!

लोगों के सुने होंगे बखान!

ज़िम्मेदारी से ताल्लुक रखता वर्तमान!

कितना कुछ हैं दरमियान!!

फिर भी कुछ तो लिखा होगा आपने?

अकेले ना लगिए उसे मापने!

थोड़ा करिए ना उसे साझा,

चाहे आप अकेले हो कहानी के रांझा!

कुछ तो मन में हैं आपके हलचल,

आंखों के कोनों में समाया जो जल,

परख सकती मेरी आंखें उसे पल-पल!

जो बीत गया वो हैं केवल कल!

हां, वोही जिसे कहते हम अतीत!

उसमें क्यों फिर करना हैं आपको लम्हें व्यतीत?

कुछ आज की बात करूं?

कहां से सब फिर करूं शुरू?

चलो, बतलाती अपने सपनों के बारे!

खामोशी में समझना होगा हमें इशारे,

फिर पढ़के नज़्म भावों को लगेंगे हम भांपने!

ठंडी में ठिठुरता बदन लगता ना जैसे कांपने?

ऐसी कंपन में अलाव जैसे देता जो आराम!

लेखन वैसे ही अतिशयोक्ति पर लगाता विराम,

फिर बताईए जी! जो भी आपने हैं लिखा?

आज इन सुंदर आंखों को क्या-क्या दिखा?



- यति





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts