गौरये's image
Share0 Bookmarks 19 Reads0 Likes

"गौरये"

नहीं चहकते गौरये 

अब मुंडेर पे,

न उतरते हैं आंगन में 

चुगने गिरे हुए अनाज के दाने

न फुदकते हैं आकर

घरों के छज्जों पर

न फुर्र-फुर्र उड़ते दिखते हैं इधर-उधर


एक खामोशी आ पसरती है

देर शाम 

मुंडेर पर अब

और ढो कर ले जाती है

चीटियां

आंगन में गिरे हुए अनाज के दाने ।


आज कई दिनों से 

उदास है बहुत अहाते का अमरूद पेड़

सुना है जब से

उड़ गये हैं दो परिन्दे

जिंदगी के जद्दोजहद में कहीं दूर।

                 

 -फाल्गुनी रॉय

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts