बिखराव-1"'s image
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

"बिखराव-1"


दो परिन्दे उड़े  

शाक से

अपने अपने दशा में

अपनी अपनी दिशा में,


कि वो उड़े 

तो ऐसे उड़े 

कि फिर कभी नहीं मुड़े।


- फाल्गुनी रॉय

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts