सबर (सब्र)'s image
Share0 Bookmarks 41 Reads1 Likes
(समझने को)
जाने कितने पन्ने पलटे
उल्टे सीधे जतन किए,
पर सबर इस बात का है
क़िरदार अनेकों जी ही लिए l

(खोजने को)
सारी उम्र सफ़र में गुजरी
जीत की चादर छू न सकी,
पर सबर इस बात का है
तजुर्बों की फ़सल अच्छी पकी l

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts