गुस्सा's image
Share0 Bookmarks 72 Reads1 Likes

छुपा था कहीं

एक संयोग की तलाश मैं

उठा जो तनिक धुंआ

वो उमड़ पड़ा हमरा होकर भी हमी से लड़ पडा

रण हुआ घनघोर रण हुआ

करुणा को त्याग नाश हुआ

स्वयं का ही नाश हुआ

वो काली घटा सा उमड़ पड़ाअपने परायो मैं भेद भुला

वो बरस पड़ा अपनो पर ही बरस पड़ा

वो वह्नि सा था भसम का अभिप्राय था

वो दौड़ पड़ा सबको राख बनाने को दौड़ पडा

वो क्षणिक होकर भी विकराल था

खुद मैं ही महान था

वो रक्त का प्यासा था उसने फिर नाश किया

स्वयं से ही विस्वाशघात किया

स्वयं का ही नाश किया

सब मिट्टी कर उसमें ही जा मिला ।

इसी मिट्टी मैं ही सर्जन का बीज उगता है।

कुछ दशा मे वो देव भी होता है

देव और दानव दोनो को समाय वो विनाश है।

वो मानव का सस्त्र ओर नाश है।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts