"चूल्हे में रोटी" बनाती हुई #औरतें's image
Poetry1 min read

"चूल्हे में रोटी" बनाती हुई #औरतें

vinod tatiwalvinod tatiwal April 12, 2022
Share0 Bookmarks 116 Reads1 Likes

"चूल्हे में रोटी" बनाती हुई #औरतें
अक्सर जला देती हैं अपने "सपनों" को
जो कभी वो देखा करती थी,
मन के उद्गार से निकले
#आँसुओं से "आटा गूँथकर"
रोटी बना परोस देती हैं परिवार की थाली में

इस तरह अधिकांश औरतें तापती रहती हैं अपने "सपनों" को
जिसका जिम्मेदार उनके साथ साथ
हमारा #समाज भी है

#सुप्रभात

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts