बचपन तेरा मेरा's image
OtherPoetry1 min read

बचपन तेरा मेरा

VinodVinod November 14, 2021
Share0 Bookmarks 13 Reads1 Likes
आ उतर आसमान से जमीन पर
आज खुद से मिलते हैं
उतार चोला बड़पन की बंदिशों का
आ बचपन से अपने गुफ्तगू करते हैं ।

डॉ. विनोद कुमार

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts