मेरे पिता's image
Share0 Bookmarks 80 Reads1 Likes
चोट पर मरहम हैं 
चलती श्र्वाश हैं
जज़्बात हैं
एक अहसास हैं
अग्नी में जल सा हैं,
मेरा 'पिता' हैं वो!
मेरा 'पिता' हैं वो!!

कभी दुत्कारता  हैं
कभी सहलाता हैं
अपने पेरों पर चलना सिखाता हैं,
जिंदगी क्या है?
बतलाता हैं,
मेरा 'पिता' हैं वो!
मेरा 'पिता' हैं वो!!

खुद फटे कपडे से तन ढके
मेरे को महंगी 'ब्रांड' दिलाएं,
त्याग कर इच्छाएं अपनी
मेरे पर सब कुछ लुटाए,
पी जाता हैं गम वो
अमृत समझकर 
मेरे खातिर,
दुखी हो तो भी
हंस जाता हैं वो
मेरे खातिर,
'भगवान' हैं मेरा
मेरा 'पिता' हैं वो!
मेरा 'पिता' हैं वो!!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts