तुम्हे मुझ पर यक़ीन हो's image
Romantic PoetryPoetry1 min read

तुम्हे मुझ पर यक़ीन हो

Dr Viney Lohchab, PhDDr Viney Lohchab, PhD June 4, 2022
Share0 Bookmarks 55 Reads1 Likes

मैंने अक्सर पुरुष को

स्त्री के आगे चलता देखा है

शायद पुरुष इसीलिए

इतना खुल कर चलता है

क्योंकि उसे यक़ीन है

अगर वो गिरेगा 

तो उसे संभालने के लिए

एक स्त्री उसके पीछे है।

मगर मैं फिर भी तुम्हारे पीछे चलूंगा,

क्योंकि मैं चाहता हूँ

कि तुम खुल कर चलो

और तुम्हे मुझ पर यक़ीन हो।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts