शुक्र-माँ लक्ष्मी-बाल कृष्ण-सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज's image
Poetry1 min read

शुक्र-माँ लक्ष्मी-बाल कृष्ण-सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज

Vikas Sharma'Shivaaya'Vikas Sharma'Shivaaya' October 22, 2021
Share0 Bookmarks 10 Reads0 Likes

शुक्र एकाक्षरी बीज मंत्र- 'ॐ शुं शुक्राय नम:।' 


माँ लक्ष्मी का महामंत्र- ॐ श्रीं ल्कीं महालक्ष्मी महालक्ष्मी एह्येहि सर्व सौभाग्यं देहि मे स्वाहा।। इसका जाप करने से स्थिर धन, दौलत और वैभव प्राप्त होता है।


“ अरु हलधर सों भैया कहन लागे मोहन मैया मैया-नंद महर सों बाबा अरु हलधर सों भैया।।

ऊंचा चढी चढी कहती जशोदा लै लै नाम कन्हैया-दुरी खेलन जनि जाहू लाला रे! मारैगी काहू की गैया।।

गोपी ग्वाल करत कौतुहल घर घर बजति बधैया-सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस कों चरननि की बलि जैया।। ”


बाल कृष्ण ने यशोदा को मैया, बलराम को भैया और नंद को बाबा के नाम से पुकारना शुरू किया है। बाल कृष्ण अब बहुत शरारती हो गए हैं। वह तुरंत यशोदा की नज़रों से दूर हो जाते है। इसीलिए यशोदा को ऊंचाई पर जाकर कन्हैया कन्हैया पुकारना पड़ता है।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts