प्रार्थना's image
Share0 Bookmarks 5 Reads0 Likes

ॐ वक्रतुण्डैक दंष्ट्राय क्लीं ह्रीं श्रीं गं गणपते वर वरद सर्वजनं मे वशमानय स्वाहा। गणेश जी के इस मंत्र का जाप करने से विवाह में आ रही ​समस्याओं का निदान हो सकता है। 


“ चरन कमल बंदौ हरि राई-जाकी कृपा पंगु गिरि लंघै आंधर कों सब कछु दरसाई।

बहिरो सुनै मूक पुनि बोलै रंक चले सिर छत्र धराई-सूरदास स्वामी करुनामय बार बार बंदौं तेहि पाई। 


सूरदास जी कहते हैं की जब श्री कृष्ण की कृपा किसी पर होती है, तो विकलांग आसानी से पैदल ही पहाड़ को पार कर जाता है और अंधे को भी दिखाई देने लगता है। गूंगा व्यक्ति बोलने लगता है और बहरा सुनने लगता है। जिसके पास खाने या पीने के लिए पैसे नहीं हैं, यानी वह गरीब है, वह भी कृष्ण की कृपा से अमीर बन जाता है। आगे सूरदास कहते हैं कि श्री कृष्ण से इतनी प्रार्थना किसे नहीं करनी चाहिए।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts