गणपति's image
Share0 Bookmarks 11 Reads0 Likes

ॐ गं हस्ति पिशाचि लिखे स्वाहा'-उच्छिष्ट गणपति का मंत्र तांत्रिक क्रियाओं से रक्षा करता है।  


“मोहिं प्रभु तुमसों होड़ परी-ना जानौं करिहौ जु कहा तुम नागर नवल हरी॥

पतित समूहनि उद्धरिबै कों तुम अब जक पकरी-मैं तो राजिवनैननि दुरि गयो पाप पहार दरी॥

एक अधार साधु संगति कौ रचि पचि के संचरी-भ न सोचि सोचि जिय राखी अपनी धरनि धरी॥

मेरी मुकति बिचारत हौ प्रभु पूंछत पहर घरी-स्रम तैं तुम्हें पसीना ऐहैं कत यह जकनि करी॥

सूरदास बिनती कहा बिनवै दोषहिं देह भरी-अपनो बिरद संभारहुगै तब यामें सब निनुरी॥ “


हे प्रभु, मैंने आपके साथ एक प्रतियोगिता में प्रवेश किया है-आपका नाम पापियों को बचाने वाला है, लेकिन मैं इसे नहीं मानता। आज मैं यह देखने आया हूं कि आप पापियों को कितना दूर करते हैं। यदि आप मोक्ष की जिद पकड़ते हैं, तो मेरे पास पाप करने का सत्याग्रह है। इस खेल में, आपको देखना होगा कि कौन जीतता है। मैं तुम्हारे कमलदल जैसे आखों से बचकर पाप की गुफा में छुपकर बैठा हूँ।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts