चल पड़ी है नई लहर.....'s image
Poetry1 min read

चल पड़ी है नई लहर.....

vijay ranavijay rana March 10, 2022
Share0 Bookmarks 41 Reads0 Likes

उनकी राख कोई माथे पे अपने लगाए क्यों


उनके लहू से कोई अपनी मांग सजाए क्यों



तमाम उम्र छिपते फिरे वतन पे जांनिसारी से 


कोई उन्हें अपने सीने से अब यहां लगाए क्यों



कलाई को उनकी कोई, राखी से सजाए क्यों


उनकी यादों को भी कोई सीने में छिपाए क्यों



चली है अब मुहिम इस वतन पे जां लुटाने की


वतन फरोशों को यहां,कोई अब अपनाए क्यों



हमारे वतन में पैदा हुए अब नए जांनिसार हैं


बढ़ते कदम उनके भला अब डगमगाए क्यों



अब पर्वतों को चीरती चल पड़ी है नई हवा


किसी जलजले से अब मेरी जमीं थर्राए क्यों


Wandering_gypsy_rns


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts