तन्हाई's image
Share0 Bookmarks 51 Reads1 Likes
ज़र्द पड़ गया हैं जैसे बगीचे का हर पत्ता,
फ़र्द आदमी इससे अकेला क्या होगा!
- विक्की आनंद (कैप्टेन)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts