शेर's image
Share0 Bookmarks 68 Reads1 Likes
प्रेम ही प्रेम को अकेला कर रहा है ,
हर रोज़ ये जब्र मुझमें भर रहा है।
        ~वैदिका मालानी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts