गुमनाम पतझड़ के's image
Poetry2 min read

गुमनाम पतझड़ के

Varun Singh GautamVarun Singh Gautam January 17, 2022
Share0 Bookmarks 21 Reads0 Likes


मै गुमनाम बन चला इस पतझड़ के

किस करीनों से कहूँ क्या गुमशुम व्यथाएँ ?

तस्वीर भी टूटी किस दर्रा में फँसी जा

खोजूँ , विकलता के किस ओर गयी उमड़


टेढ़ी – मेढ़ी लकीर भी हक नहीं लगाती चलूँ किस ओर ?

आँशू भी टुबूक – टुबूक गिर रही नयनों से धार

यह धार बह चली सब , अब ये भी सुकून नहीं

सुनसान राहों में मैं अकेला , कोई पूछें नहीं , बस अकेला


मत रोक मेरे तरंगिनि हृदय को , जानें दो , जानें दो…..

किन्तु फिर भी छोड़ चलें वों किस गति , वक्त भी गई बीत ?

वक्त बह चली धूल के गर्दिशों में नहीं मेरे कोई सहारा

एकान्त , अंधेरी राहों में न कोई दिखा छिद्र – सी प्रकाश


लौटू भी कैसे मंजिल भी घूम गई इन गर्दिशों के कण में

ढूंढते ढूंढते थक गया , अब वक्त भी चला इंतकाल की ओर

स्वप्न भी धुंधली – सी , न दिखा सांस भी गुम गई किस किनारे में ?

पल – पल भी विकलता थी , तोय – वात भी नहीं , यह दोज़ख या बिहिश्त


याद क्यों करूँ वो खल जहाँ मिली तिमिर ही तिमिर सन्ताप असह्य ?

दर – दर भटका उस ओक – यह ओक शोणित सदा मैं , जानें मुझे कौन ?

खौफ – सी थी मेरी केतन , अर्क तो मेरी पर के गो प्रतीर

मीत मेरी अवपात बचा जो मिली उस अंधेरी असित रन्ध्रों में

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts