KOTA EXPRESS's image
Share0 Bookmarks 84 Reads0 Likes
कोटा किस-किस को याद है? हां वही राजस्थान का एक शहर कोटा जिसके बारे में कहावत मशहूर है।यदि किसी चौराहे पर खड़े होकर एक पत्थर फेंकोगे तो या तो वह किसी कोचिंग में गिरेगा या फिर किसी हॉस्टल में। वही कोटा जिसकी हवा में ऑक्सीजन से ज्यादा कांपटीशन घुला हुआ है। कोटा ऐसा शहर है जहां आईआईटी या मैडिकल की तैयारी के लिए हर वर्ष लाखों स्टूडेंट आते हैं। न जाने कितने बच्चों के सुनहरे सपने यहां आकर सच हुए। कुछ बच्चे असफल भी होते हैं लेकिन वह कोटा से यह सीख कर जाते हैं कि आगे की जिन्दगी में जीत कैसे हासिल करनी है। अगर आप मैडिकल या इंजीनियरिंग के स्टूडेंट नहीं है तो कोई बात नहीं। लेकिन कोई ऐसा एग्जाम जिसमें भले ही आपका सिलेक्शन ना हुआ हो लेकिन उसे दिल की गहराइयों से चाहा हो। तब आपको मेरी पोइट्री जरूर पसन्द आएगी।

----------------------------------------------
****************************** 

(शीर्षक: कोटा एक्सप्रेस)

सिलेक्शन की रेस में देखा खुद को आजमाकर 
कोटा के मिजाज का देखा धड़कनों पे असर 
बुकस्टोर हो या चाय की दुकान हर तरफ एक ही लहर 
बंद कमरा हो या खुला आसमान जुनून में डूबा शहर 

थिएटर में पिक्चर के बीच अगले टैस्ट की बातें 
ऑर्गेनिक कैमिस्ट्री में डूबकर बिताई गई रातें 
पढ़ाई का इतना प्रैशर कि हाइड्रोजन से बन जाए हिलियम 
लोगों की ऐॆसी कन्संट्रेशन कि अपनी बिगड़ गई इक्व्लिब्रियम 

बॉटनी की बुक में प्रकाश संश्लेषण 
या मैकेनिक्स में न्यूटन का विश्लेषण 
हर बात में पीएमटी की नॉलेज 
हर खयाल में मैडिकल कॉलेज 

क्रिकेट से ज्यादा अपने स्कोर का क्रेज होता है 
सिलेक्शन की बातें सुनकर दिल में कुछ-कुछ होता है 

पर्चियों पर लिखी इक्वेशन दीवारों में रंग भरती है 
अलुम्नाई की हर लिखावट एक दास्तान बयां करती है 
कोटा की पॉजिटिव वाइब्स खुद से रूबरू कराती हैं 
अपने सपनों को हकीकत से लड़ना सिखाती हैं 

क्लास में टीचर के साथ ठहाके मारना 
कोचिंग में छपी फोटो देर तक निहारना 
शायद कुछ छूट गया कोटा में 
अब वह बात नहीं बातों में 

कोटा तुझे छोड़ने की खुशी थी और खोने का गम भी 
तूने पलकों को गीला किया और दिल को छुआ भी 

काश फिर से कोई टूटता तारा नजर आए 
दुआ करूं वक्त को उल्टा घुमाने की 
काश फिर से बेवजह बुकलैट के पन्ने पलटूं 
और चाहत रखूं कोटा पढ़ने जाने की 

तलवण्डी की पेटीज, चौपाटी की आइसक्रीम 
विज्ञान नगर की चहलकदमियां, वो चम्बल गार्डन का नजारा 
मेरी जीत ने एक मायूसी भरा दौर भी जिया था वहां 
फिर भी यादों में रहेगा सदा कोटा का वक्त सुनहरा

© वरुण चौधरी अंतरिक्ष 

@revolution_budd on twitter 

#KOTAEXPRESS #kotafactory  #KotaCoaching #kotadiaries #unacademy

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts