अपने's image
Share0 Bookmarks 161 Reads5 Likes
ये जलसे, ये महफिलें, बस दो दिन की रौनकें हैं ।
अपने में, और अपनों में ढ़ूंढ़ कर देखो, जन्नतें हैं ।

© वरुण चौधरी अंतरिक्ष

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts