संघर्षों's image
1 min read

संघर्षों

VanshVansh June 16, 2020
Share0 Bookmarks 82 Reads0 Likes

संघर्षों से लड़ के,

पत्थरों पे चल के,

धूप में जल के,

अभाव में पल के,

भूखा सोने को मजबुर हूँ,

 मै, मजदूर हूं ।


दे के ठहर तुम्हे,

छत की मंजुल छांव भी,

दूर से आकर दिया है,

अपनेपन का भाव भी,

पर खुद

बादलों के नीचे सोने को, मजबुर हूं,

 मै एक, मजदूर हूं।


ना चाह आलीशान बंगला,

ना रकम की चाह है,

सम्मान का भूखा हूं मै ,

स्वाभिमान ही मेरी चाह है,  

दो रोटी के लिए ही,

घर से अपने दूर हूं,

हां मै, मजदूर हूं।


.    मजदूर दिवस को समर्पित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts