आधुनिक शैक्षिक विडंबना's image
Poetry1 min read

आधुनिक शैक्षिक विडंबना

Utsav KumarUtsav Kumar August 14, 2022
Share0 Bookmarks 52 Reads1 Likes

स्कूल बन चुका है व्यापार,

फरमाइशों की हो रही भरमार,

किताबों में है जिल्द चाहिए,

कॉपियों में भी है दरकार

जूते इनको पॉलिश चाहिए,

पढ़ाई-लिखाई सब दरकिनार

कपड़ों में भी क्रीच चाहिए,

भले खर्च हो एक हजार

समय-समय पर पोशाक बदलना,

मासिक शुल्क भी हो रहा बेशुमार

बताकर शिक्षा के प्रति समर्पित खुद को,

वो लूट रहे हैं बारंबार

व्यवस्थापक और अभिभावक में तकरार,

साथ ही बच्चों पर भी पलटवार

लगना चाहिए इन पर अंकुश,

कहां से लाएगा गरीब - लाचार।

                                           ___उत्सव कुमार



















No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts