नया राष्ट्र's image
Share0 Bookmarks 35 Reads1 Likes
सर्द की अलसाई भोर में उठती बालो को समेटते हुए
चाय का प्याला लिए देखा अखबारों को खोलते हुए
असमंजस्य हुआ अखबार है या इतिहास की पन्ने 
सुना था लूटा है दिल्ली को गजनी के लुटेरों ने
पर आज कौन गजनी से आया है
कौन सी सेना और कौन सी तलवार लाया है

क्या कोई मयूर सिंहासन लेगा
या लेगा कोई तख्त–ए–ताज
क्या ले जाएगा बहु बेटियां 
या कब्जाएगा कोई भूभाग 

नही... आज समय जो बदला है
अफगान नही, कोई गोरा है
पर कहां गए वीर सावरकर
या कहां गए मेरे गांधी
हाय! इंकलाब का नारा था
खादी ही सबसे प्यारा था

नए राष्ट्र का स्वपन लिए
दिग्विजय के लिए निकले थे
कितने खाए थे गोलियां
कितने फाशी पे चढ़े 

नया राष्ट्र कैसा होगा 
कि...(हतप्रभ सन्नाटा)

यह प्रश्न है या विराम है
कलम का या विचार का
एक और हत्या हुई
प्रेम आशा और विवेक का

संवेदना ठहरी रही
चाय के खत्म होने तक
धुंध हो गई स्मृतियाॅ
अखबार के रद्दी होने तक।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts