जब सुधियों के पाँव पखारे (गीत)'s image
Love PoetryPoetry1 min read

जब सुधियों के पाँव पखारे (गीत)

राहुल द्विवेदी 'स्मित'राहुल द्विवेदी 'स्मित' November 3, 2021
Share0 Bookmarks 14 Reads2 Likes
बाहर के रण जीते हमने, अंदर के द्वंदों से हारे ।
आँसू-आँसू फूट पड़ा मन, जब सुधियों के पाँव पखारे ।।

अपने दर्द छुपाकर दिल में, हमने मुस्कानों को पाला,
इच्छाओं को भूखा रखकर, आशाओं को दिया निवाला ।
जीवन के इस रंगमंच में, पहन मुखौटा घूमे हरदम..
बाहर के अभिनय को देखा, अंतर्मन ने ताने मारे ।।

आहत साँसों के मृदंग थे, फिर भी गाये गीत प्रणय के ।
रहे बिखरते प्रतिपल लेकिन, रहे सजाते पृष्ठ समय के ।
जलते और उजाला देते, डूब गए जाकर सागर में,
अब भी तट से कोई सूरज, खड़ा अचम्भित हमें निहारे ।।

- राहुल द्विवेदी 'स्मित'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts