महंगाई....'s image
Share0 Bookmarks 8 Reads0 Likes


महंगाई पर जनता की चीख

को वे ही बता रहे हैं व्यर्थ

जनता ने मत देकर जिन्हें

बनाया सत्ता के लिए समर्थ

सत्ता शीर्ष पर बैठकर भूले

वेे लोकतंत्र के सभी आदर्श

गैर वाजिब लगने लगा उन्हें

जनसमस्याओं पे खुला विमर्श

अर्थव्यवस्था रपट रही है क्यों

कैसे आएगी इसमें नई जान

संसद के सदनों में बहस को

तैयार नहीं सत्ता के श्रीमान

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts