हे मेरे पालनहार !'s image
Kumar VishwasPoetry1 min read

हे मेरे पालनहार !

Umesh ShuklaUmesh Shukla December 30, 2022
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes


तन और मन को दुरुस्त

रखना हे मेरे पालनहार

तभी हम जीवन का सफर

आनंद ले सकेंगे लगातार

बुद्धि और विवेक की तुला

को रखना हरदम युगानुकूल

ताकि हमारे कार्य कोई न हों

कभी कहीं समाज के प्रतिकूल

ईश्वर की महिमा का हम कुटुंब

संग सदा करते रहें गुणगान

सद्मार्ग पर चल रोशन करें हम

कुल और गांव का सतत नाम

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts