मेरी वफ़ादारी का यह सिला हुआ's image
2 min read

मेरी वफ़ादारी का यह सिला हुआ

Umakant YadavUmakant Yadav June 16, 2020
Share0 Bookmarks 876 Reads0 Likes

जीती थी जिसने दुनिया शमशीर बन के 

लौटा था इस जहाँ से फ़क़ीर बन के 

मैं तो यूँ भी मंज़िलों पर ठहरता नहीं

क्या करोगी मेरी तक़दीर बन के



मेरी वफ़ादारी का यह सिला हुआ

यार मेरा था दुश्मनों से मिला हुआ

क़िस्मत के फ़ैसले से हम दोनों हैं नाख़ुश

जाने किसके हक़ में यह फ़ैसला हुआ


ना ज़्यादा कुछ समझा हूँ, ना ज़्यादा कुछ कहता हूँ

याद आऊँ कभी तो जी लेना, काग़ज़ पे उकेरा लम्हा हूँ

चंदा नहीं जो रात सजाऊँ, घट जाऊँ बड़ जाऊँ

छोटी सी चिंगारी हूँ, दिल में आग लगाता हूँ


मेरा मन उड़ने को आतुर काग़ज़ या कंजर की तरह

ज़िम्मेदारियाँ काग़ज़ पर रक्खे पत्थर की तरह

कुछ ना कर पाने की पीड़ा

पीठ में चुभे ख़ंजर की तरह


हमसे बोला बंदर एक दिन मंद मंद मुसकाय

अच्छा है जो मेरे पूर्वज इनसाँ ना बन पाए

टूटे परबत सूखी नदियाँ कटते पेड़ उजड़ती बगिया

“उन्नति” की क़ीमत तुम शायद कभी समझ ना पाए

दो पैरों पर हो के खड़ा बर्बादी की ओर दौड़ता जाए

अच्छा है जो मेरे पूर्वज इनसाँ ना बन पाए


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts