बदलाव's image
Share1 Bookmarks 46 Reads1 Likes

जाति , रंग ,रुप से कभी कोई बड़ा नहीं ।

बुद्धि, विवेक, बल अगर कोई किसी से कम नहीं ।।

चरितार्थ है इतिहास में लाखों उदाहरण पड़े ।

पर अम्बेदकर और एकलव्य का जीवन कर रहा रोंगटे खड़े ।।

 ये भेद भाव करके कुछ लोग सर्वोच्च बनने पर अड़े।।

ये भ्रान्तियाँ कब मिटेगा? सोचने का वक्त है ये ।

उलझे हुए इस कड़ी को सुलझाने का वक्त है ये ।।

युग की दुहाई दे ,कुछलोग यहाँ सम्मान पता है ।

शोषण का इस हथियार से वो घायल करता है ।।

युग युगांतर कर्मशील ही स्वच्छ परिवेश बनाया है ।

पर दबंग लोगों के द्वारा हर दम वो ठोकर खाया है ।।

कर्ण उपेक्षित हो कर , पुरुषार्थ नहीं दिखला पाया ।

ये आराजकता,भ्रष्टाचार का केन्द्र बिन्दु फिर पनप रहा है ।।

बदलाव का शंखनाद है, समझे सोचने का वक्त है ये ।

समझबुझ कर अपने आप में बदलाव लाने का वक्त है ये ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts