पहली शुभकामनाएं's image
Share0 Bookmarks 74 Reads0 Likes
आज तुम्हारा जन्मदिन है ये दिन मुझे हमेशा याद रहता है और ये तुम्हें भी शायद पता होगा । 

याद है तुम्हें, इस दिन सबसे पहली शुभकामनाएं मेरी होती थी, 
रात को 12 बजने से पहले मैं घड़ी को पल पल निहारा करता था, 

कब बजेंगे 12, कब बजेंगे 12, बस यही सोचकर बेचैन हुआ करता था, 
आंखों में गहरी नींद होने के बावजूद भी मैं तुम्हें पहली विश करने के लिए जागा करता था । 


खैर छोड़ो, ये बताओ कि...

अब तुम्हें पहली शुभकामनाएं कौन देता है? 

क्या उसे भी मेरी तरह तुम्हें विश करने की बेचैनी रहती है?

क्या तुम पहले की तरह अब भी पहली विश के लिए बेसब्री से इंतजार करते हो? 

क्या उसे तुम्हारा जन्मदिन याद रहता है जिसकी किस्मत में तुम लिखे थे?
 
क्या वो आज के दिन सिर्फ़ तुम्हारे लिए समय निकालता है?

क्या वो तुम्हारे इस दिन को खास या यादगार बनाता है?

शायद तुम इन सवालों के जवाब ना दे पाओ, 

क्योंकि... 

आज भी मैं तुम्हारी ख़ामोशी को महसूस कर सकता हूं,

तुम भले ही दूर हो मुझसे, भले तुमसे बात किए अरसा हो गया,

लेकिन आज भी मेरा दिल तुम्हारी धड़कनों को सुन सकता है,

आज भी तुम्हारे खामोश चेहरे को पढ़ सकता है,

तुम कब खुश रहते हो, कब उदास रहते हो, 
मुझे सब पता चल जाता है, 

मेरा दिल है ना, यही मुझको सब बताता रहता है,

बेशक तुम अपने दिल का एक हिस्सा अपने साथ ले गए,

लेकिन आज भी तुम्हारे दिल का एक हिस्सा मेरे दिल में पल पल धड़कता रहता है, 

जिसे तुम चाहकर भी अलग नहीं कर सकते ।

आज भी मैं तुम्हें विश करने से कैसे भूल सकता हूं,
हमेशा की तरह ईश्वर से तुम्हारी खुशी मांगता हूं,
तुम जहां भी हो, जैसे भी हो हमेशा खुश रहो,
बस ईश्वर से हर रोज़ यही दुआ मांगता हूं ।

: तुषार "बिहारी"

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts