माता पिता : ईश्वर का स्वरूप's image
Poetry2 min read

माता पिता : ईश्वर का स्वरूप

तुषार "बिहारी"तुषार "बिहारी" December 29, 2022
Share0 Bookmarks 132 Reads0 Likes
अनेक कष्ट सहकर "माँ" हमें जन्म दे जाती है, 
शिशु रूप में "पिता" हमें सीने पे सुलाते है ।
हमारा रोना सुनते ही "माँ" झट से जाग जाती है,
अपने रोने से हम "पिता" को पूरी रात जगाते है ।

माता-पिता दोनों को समर्पित पंक्तियां;  

उनकी उंगलियां पकड़कर हम चलना सीखते है, 
हमारे लड़खड़ाते कदम का वो सहारा बनते है ।
 
उनके दिए संस्कार से हम समाज के समक्ष आते है, 
उनके दिए प्यार से हम प्यार का मोल समझ पाते है ।
 
कदम कदम पर वो हमारा मार्गदर्शन किया करते है, 
हमारी सफलता पर सबसे ज्यादा खुशी लुटाया करते है ।
 
वो हमारी हर गलती को सीख बताया करते है,
हमारे प्रति निस्वार्थ भाव से प्रेम किया करते है ।
 
सब कुछ देकर भी वो हमसे कुछ भी नहीं मांगा करते है, 
ईश्वर से सदैव हमारी सलामती की दुआएं मांगा करते है ।
 
हमारी छोटी सी छोटी चोट को गंभीरता से लेते है, 
हमारी हर तकलीफ को अपनी तकलीफ समझते है ।

हमारी हर खुशी के खातिर पूरी दुनियां से लड़ जाते है, 
हमें अच्छी सुविधा देने का हर पल प्रयास कर जाते है ।

उनकी पूरी जिंदगी अपने बच्चों के नाम हो जाती है,
उनके आशीर्वाद से जिंदगी खुशनुमा हो जाती है ।

माता-पिता की छाव के खातिर ईश्वर ने चमत्कार किया,
उनका प्रेम पाने के खातिर स्वयं ईश्वर ने अवतार लिया ।

: तुषार "बिहारी"

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts