जीवन की बढ़ती व्यस्तता's image
Poetry2 min read

जीवन की बढ़ती व्यस्तता

तुषार "बिहारी"तुषार "बिहारी" December 27, 2022
Share0 Bookmarks 167 Reads0 Likes
जिंदगी इतनी व्यस्त हो गई है,
समय की गति तेज हो गई है ।
समय के साथ चलते चलते,
मानो जिंदगी पीछे हो गई है ।

जरूरतें पूरी करने घर से निकलता है,
पता नहीं इंसान कहां कहां भटकता है ।
तेज धूप हो या फिर बारिश की रिमझिमाहट,
सब सहकर इंसान घर लौट निकलता है ।

सुबह से शाम हो जाती है,
रात में जिंदगी थक सी जाती है,
थक हार बिस्तर पर पड़कर,
पता नहीं सुबह कब हो जाती है ।

कोई नौकरी पर जा रहा है,
तो कोई व्यापार चला रहा है ।
दिनभर की इस भागादौड़ी में,
इंसान सिर्फ़ बीतता जा रहा है ।

नौकरी पर समय से निकलता है,
घर अक्सर समय के बाद पहुंचता है ।
घर और नौकरी के दरमियान, 
इंसान यहां रोज पिसता रहता है ।

जिम्मेदारियां सिर पर उठाए फिरता है,
अपनी आंखों के आंसू सुखाए फिरता है ।
दुनिया के दिए हुए हर एक ज़ख्म,
अपने दिल में छुपाए फिरता है ।

जीवन संघर्षों से घिरा जा रहा है,
चारों ओर अंधेरा ही छा रहा है ।
जरा उजियारे की तलाश में,
जीवन निकला सा जा रहा है ।

: तुषार "बिहारी"

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts