हिंदी कविता's image
1 min read

हिंदी कविता

Tripathipawan259Tripathipawan259 June 16, 2020
Share0 Bookmarks 66 Reads0 Likes

हम रखे थे उम्मीदे जिनसे वो जालिम चालबाज निकले

ढूंढते मिले भी सफर में पर वो बहाने बाज निकले।

उम्मीदे ना.छोड़ी हमने उसको पाने की पर किस्मत ही बेकार निकली

लाख कोशिश कर ली हमने पर पैदाईशी परेशान निकले।

हम रखे थे उम्मीदे जिनसे वो जालिम चालबाज निकले

ढूंढते मिले भी सफर में पर वो बहाने बाज निकले।

रोज नयी आस मे जीने की आदत डाली पर जरुरतो से हैरान निकले

वो कहते हुए निकले तुम मे कुछ बात है इसका तो ख्याल रखते। हम रखे थे उम्मीदे जिनसे वो जालिम चालबाज निकले ढूंढते मिले भी सफर में पर वो बहाने बाज निकले।

Pawan Tripathi

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts