मौन's image
Share0 Bookmarks 15 Reads1 Likes



अस्तित्व था है और रहेगा

सिलसिला यूं ही चलता रहेगा

तेरे होने का प्रमाण ही तो है

यहां से वहां तक बस तू ही तू है।


तिनका हूं एक अदना सा मगर

तेरी पनाह में खिल रहा हूं।

तूने एक बराबर सबको देखा

तो बौनापन अपना भूल गया हूं


जानता हूं कि तू है बस इसी

आस में दरिया पार कर लिया मैने

तू मुझमें हैं मैं तुझमें हूं

खौफ़ मुझे किस बात का है

गिरा भी दिया जाऊं ग़र कहीं

तो बिठा ही देगा फलक पे तू मुझे

क्योंकि कर तो मैं नहीं रहा

मुझसे तो करवाया गया है ।


रुक गई है ज़िंदगी

करने को कुछ बाकी नहीं

थाम ले हाथों को ज़रा

अब मुझे यहां आना नहीं










No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts