तेरा दीदार's image
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
मैं अयादत अपने चिलमन से तेरे हुस्न गुलजार का किया करता था
मैं तरकीब से तेरे सफर मेंंं तेरे साथ आया करता थाा
देखा जब मैं उस दिन उन दीवारों केेे पीछे तुझे
यू दरिया में बैठकर गैरों केेेे बीच तेरा दीदार किया करता था।

महफूज हो गया था, तेरे हुस्न के मयखाने में ।मोहब्बत के झरने बह रहेेेेेे थे ,तेरे इस दीवाने में।
मचलती चाल हिरनी सी बड़ी मासूम थी तेरी ,
बना परछाई फिरता में तेरे साए के पीछे में।

तेरी नजरों केेेे साए मे मेरा, वह शहर जलता था
उठा थााााा इश्क का धुआं अब सारा शहर घूमता था।
सजी थी महफिले तेरे अकीदत केेे तराने मेंं।
मैं यूं ही तेरे नजराने मेंंं तेरा, नाम लिखता था

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts