ज़िन्दगी के बाद भी...'s image
NatureNaturePoetry2 min read

ज़िन्दगी के बाद भी...

Thakur Yogendra SinghThakur Yogendra Singh January 18, 2022
Share0 Bookmarks 71 Reads1 Likes

जिन्दगी के बाद भी है ज़िन्दगी का फलसफा।

प्यार, चाहत, दोस्ती, हो बेवफाई या वफा।।

इस जहां के बाद भी, कोई जहां आबाद है।

जिन्दगी के हर सफर की, हर जहन में याद है।।

...

जब तलक है जिन्दगी ये,तब तलक ही आस है।

बाद उसके तो सदा, बस प्यास,केवल प्यास है।।

आज तक जो भी रहे है, खुद-ब-खूद ही अजनबी।

वो ही बोलेंगे किसी दिन, मिल भी न पाए कभी।।

...

सामने जब तक रहे, तब तक न कोई बात की।

आंख जब खोली तो देखी, गहरी स्याही रात की।।

बिछड़ने के बाद के, गम की न सुनवाई कहीं।

जो चला जाए, कभी फिर सामने आता नहीं।।

...

जहन में बाकी है चेहरा, याद में करतब सभी।

और रिश्तों के सबक, अच्छे बुरे जो थे कभी।।

दोस्ती और दुश्मनी, रहती यहीं संसार में।

स्वप्न मे पलतीं हैं यादें, खुशनुमा इज़हार में।।

...

जाने वाले के न कोई, साथ अब तक जा सका।

साथ गुजरे पल,सफर,खुशियां न फिर से पा सका।।

अब खयालों में तो कोई, रह नहीं सकता खफा।

जिन्दगी के बाद भी है, जिन्दगी का फलसफा।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts