सुस्वागतम् ...नव वर्ष !'s image
Poetry2 min read

सुस्वागतम् ...नव वर्ष !

Thakur Yogendra SinghThakur Yogendra Singh December 30, 2021
Share0 Bookmarks 50 Reads0 Likes

स्वागत हे नव वर्ष! नवोदित, नूतन,नव्य,नवीन,नवल!आशाओं,आकांक्षाओं पर आश्रित,अनुमोदित,संबल।।

पूर्वाग्रह प्रेरित,परिकल्पित,पल प्रमाण पल्लवित प्रबल।

संशय युक्त, सहष्णुमना तुम, कर दो हर जीवन मंगल।।

...

बहुत सहा,अब शेष नहीं कुछ,साहस,सहनशक्ति,संयम।

आहत हुआ आत्मबल, ऐसे वर्ष सहे, दो अति निर्मम।।

अवशोषित हैं अश्रु, हृदय-निज मिश्रित भावों का संगम।

दुष्कर वक्त, दु:साध्य पलों का साक्षी है, बिछुड़ों का गम।।

...

हे आगन्तुक! नवजीवन के कुछ नए कलेवर लाना तुम।

इस "कोरोना" की राहों में, चट्टान ठोस बन जाना तुम।।

जितने भी नए प्रकार, सभी को मूल-समेत जलाना तुम।

वो पहले वाली खुशी,हर्ष,आनन्द,स्वास्थ्य ले आना तुम।।

...

हो हर विषाणु से मुक्त धरा,आकाश,स्वच्छ,निर्मलतम हो।

आना-जाना,मिलना-जुलना,नित पूर्ववत और सरलतम हो।।

हर दु:खद स्मृति को कर विस्मृत,ना पुनः कभी ऐसा क्रम हो।

हो फिर जीवन खुशहाल, मास्क,दूरी जैसा न कोई भ्रम हो।।





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts