जंजीरें's image
Share0 Bookmarks 37 Reads0 Likes

क्यों सहम जाता है ये मन,कड़कती बरसात में।

क्यों दहल जाता है ये मन, इक अकेली रात में।।

...

कौन जाने कब तलक, होगी सहर इस रात की।

आज कुछ ज्यादा ही, बहके हैं निरे जज़्बात में।।

...

खुद कमाया सुख, कभी खैरात में मांगा नहीं।

इसलिए कोई न दे, ताना मुझे हर बात में।।


प्यार से जो भी मिला, बेखोफ उसके हो लिए।

फर्क ही खोजा नही, खुद में, कभी हालात में।।

...

आज भी जैसा, जहां हूं, हूं स्वयं की कैद में।

हैं बहुत मजबूत, जंजीरें मिलीं सौगात में।।

...

सो रहा सारा जहां, पर नींद आंखों में नहीं।

गगन के तारे चले सब, ग्रहों की बारात में।।

...

रात-दिन और आज-कल में,कट रही है जिन्दगी।

जो रही बाकी, निकल जाएगी बातों बात में।।









No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts