हैप्पी न्यू ईयर's image
Poetry1 min read

हैप्पी न्यू ईयर

Thakur Yogendra SinghThakur Yogendra Singh December 24, 2022
Share0 Bookmarks 24 Reads0 Likes

भूलकर जख्म,याद,ग़म सारे, दिल को पत्थर तमाम कर लेंगे।

तुम नया साल हमें"विश"करना,हम भी"हैप्पी"मुक़ाम कर लेंगे।।


दर्द चेहरे पे ना उभर पाए, ऐसी मुस्कान ढूंढ लाएंगे।

तुमको अहसास कुछ न हो पाए,वो भी सब इन्तजाम कर लेंगे।।


आपकी तरह ही "स्टेटस" पर, हम सजाएंगे " हैप्पी न्यू ईयर"।

"व्हाट्सएप"और"फेसबुक"की भी,"पोस्ट"सब अपने नाम कर 

लेंगे।।


नये संकल्प क्या करें अब जब, पुराने ही सभी अधूरे हैं।

अपनी पहचान बने अपनों में,अबकी कुछ ऐसा काम कर लेंगे।।


लो,गया साल फिसल हाथों से,दे गया वो असह्य दुःख अगणित।

अब जो आएगा वो नया होगा, फिर से खुशियां तमाम भर लेंगें।।


आने-जाने के सतत उपक्रम में, साल दर साल गुजरते निष्फल।

आयु में वृद्धि,जिन्दगी कमतर,कुछ न कुछ तो निजाम कर लेंगे।।


अब न लौटेंगे साल जो गुजरे, सबकी यादों को आम कर लेंगे।

तुम नया साल हमें "विश"करना,हम भी"हैप्पी"मुकाम कर लेंगे।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts